घर में लेमनग्रास लगाने के हैं कई फायदे एक्सपर्ट से सीखें इसे लगाने का सही तरीका

घर में लेमनग्रास लगाने के हैं कई फायदे एक्सपर्ट से सीखें इसे लगाने का सही तरीका

लेमनग्रास का नाम तो आप सबने जरूर सुना होगा। यह एक पतली-लंबी घास वाला पौधा है, जिसका वैज्ञानिक नाम Cymbopogon है। लेमनग्रास की पत्तियों और तने से सुगंधित तेल निकाला जाता है। इस तेल की खुशबू नींबू की तरह होती है।

इसकी सूखी पत्ती से मिलने वाले पाउडर से हर्बल चाय बनती है। साथ ही इसे सूप, सॉस आदि डिश में भी डाला जाता है। लेमनग्रास टी पीना सेहत के लिए फायदेमंद होता है। रिसर्च के अनुसार, इसमें एंटी-अमीबिक (anti-amoebic) और एंटी-बैक्टिरियल गुण तो होते ही हैं। साथ ही इसका सेवन आपके डायजेशन के लिए भी अच्छा होता है।

वहीं लेमनग्रास ऑयल का उपयोग अगरबत्ती, साबुन, परफ्यूम, कॉस्मेटिक प्रोडक्ट, अरोमा ऑयल बनाने में किया जाता है। यानी बिलकुल सामान्य से दिखने वाली ये घास बड़े काम की चीज है। बाजार में लेमनग्रास ऑयल और टी काफी महंगी कीमत में मिलता है, लेकिन इस सेहतमंद पौधे को आप घर पर भी बड़ी आसानी से उगा सकते हैं।

उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में पिछले कई सालों से टेरेस गार्डनिंग कर रहीं विजया तिवारी आज हमें लेमनग्रास लगाने के कुछ आसान तरीकें बता रही हैं। उनका कहना है कि इसे लगाने में ज्यादा देखरेख, खाद या कीटनाशक की जरूरत नहीं होती।

कैसे उगाएं लेमनग्रास (How to grow lemongrass)

यह एक औषधीय घास है, जो दो से पांच फुट की ऊंचाई तक बढ़ सकता है। आप इसे किसी भी गमले में आराम से उगा सकते हैं। वहीं अगर मिट्टी की बात करें तो इसके लिए भुरभुरी मिट्टी सही होती है।

  • विजया बताती हैं, “इसे बीज, डंठल (तना) और नर्सरी से लाए पौधे के माध्यम से लगाया जा सकता है।”
  • लेमनग्रास आजकल आसानी से सब्जियों की दुकान या सुपरमार्केट में मिल जाता है। बाजार से लाए लेमनग्रास की पत्तियों को इस्तेमाल में लेने के बाद, उसके कुछ डंठल (Stalk) से आप इसे उगा सकते हैं।
  • सबसे पहले आप इन डंठल (Stalk) को तक़रीबन एक हफ्ते तक पानी में डालकर रखें। इसे धूप से बचाकर रखें और नियमित रूप से इसका पानी बदलते रहें।
  • एक हफ्ते के बाद इसमें जड़ें और कुछ पत्तियां भी निकलने लगेंगी।
  • अब आप इसे किसी गमलें या ग्रो बैग में डालकर उगा सकते हैं।
  • गमले की मिट्टी के लिए आप, 50% गार्डन सॉइल (कोई भी सामान्य मिट्टी) और बाकि 50% रेत और गोबर खाद का मिश्रण मिलाए।
  • इसे अच्छे से बढ़ने के लिए दिन में चार से पांच घंटे की धूप जरूरी है। वहीं मई और जून में चिलचिलाती धूप से इसे बचाना होता है।
  • आपको इस पौधे की नमी हमेशा बनाए रखनी पड़ती है। इसलिए मिट्टी को कभी पूरी तरह से सूखने न दें। वहीं ज्यादा पानी डालने से भी यह पौधा खराब होकर मर जाता है। इसलिए ज्यादा पानी डालने से बचें।
  • इसे उगने के लिए किसी विशेष खाद आदि की जरुरत नहीं होती। लेकिन आप साल में दो बार इसमें गोबर या घर में बनी कपोस्ट खाद डाल सकते हैं।
  • एक बार लेमनग्रास लगाने के बाद आप देखेंगे कि इनकी संख्या अपने आप बढ़ने लगती है और धीरे-धीरे कई डंठल(Stalk) निकलने लगते हैं।

हाय दोस्तों आज हम आप सबके लिए लेकर आए हैं हंड्रेड बिलियन मनी अर्न करने का मौका

Click Here

भारत की नंबर वन नेटवर्क मार्केटिंग कंपनी 2021

बीज से लेमनग्रास लगाना (How To Grow Lemongrass From Seed)

नर्सरी या ऑनलाइन मार्केट में आसानी से लेमनग्रास के बीज मिल जाते हैं। इस बीज को आप गमले में लगा दें और पानी छिड़ककर किसी छाया वाली जगह पर रख दें। आपको इस बात का ध्यान रखना है कि गमले में नमी बनाए रखने के लिए हर दिन हल्का पानी छिड़कना है। लगभग 7-10 दिन में बीज से अंकुर निकलने लगेंगे। जब अंकुर से पौधा बनने लगे तो गमला किसी धूप वाली जगह रख दें जिससे कि पौधे तेजी से बढ़ सके।

देखभाल से जुड़े टिप्स (Tips To Grow Lemongrass)

विजया कहती हैं कि आप फरवरी में लेमनग्रास लगाएंगे तो सालभर इसमें से पत्ते निकलते रहेंगे, गर्मियों में इसमें अच्छी पत्तियां आती हैं। जबकि ठंड में इसकी पत्तियां थोड़ी भूरी होने लगती हैं, कुछ लोग सोचते हैं कि पौधा मर गया लेकिन यह ख़राब नहीं होता। आप इस भूरी पत्तियों को काट ले और नियमित पानी डालते रहें, गर्मियों में फिर से इसमें हरी पत्तियां आने लगेंगी।

चूंकि यह एक सुगंधित पौधा है जो मच्छर आदि को दूर रखने का काम करता है। यही कारण है कि इसमें आमतौर पर कीट नहीं लगते। लेमनग्रास के पौधे खुली धूप में अच्छे से बढ़ते हैं। छाया में लगे हुए लेमनग्रास के पौधे का सही विकास नहीं होता।

समय-समय पर आप इसकी पत्तियां ऊपर से काट कर इस्तेमाल में लेते रहें। आप इसकी पत्तियों को सूखा कर भी रख सकते हैं। इसे सामान्य चाय की तरह दूध और चीनी के साथ बना सकते हैं। वहीं लेमनग्रास की ताज़ा पत्तियों को गर्म पानी के साथ उबालकर हेल्दी ग्रीन टी भी बना सकते हैं।

Also Read

Also Read

जंगल में खेल रहे थे हिरण तभी दौड़ता हुआ आया शेर

Also Read

जानिए आख‍िर क्यों शेर की जगह बाघ को मिल गया था राष्ट्रीय पशु का दर्जा

Anmolk9155

Hi friends मेरे website पर आपका स्वागत है, मेरे वेबसाइट पर motivational quiets, earning tips, and अन्य सभी रोचक ब्लॉग पोस्ट डाले जाते हैं। इससे ज्यादा category wise देखने के लिए आप पोस्ट के ऊपर जाकर मीनू पर क्लिक करके देख सकते हैं ।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *